उलझन (uljhan)

ऐ आज…..

तू मेरे कल से निकाल दे मुझको,

हर छुटता लम्हा,
काफ़िर बनाता है कल को…..
तांडव है मन में, 
मुख पे नदियों की धारा है,
अंधकार में उलझी है कस्ती,
न जाने किस ओर किनारा है….

चमक देख आसमानी,
उस ओर  दौड़ जाता हूँ,

मगर जिस राह पे जाता हूँ,
खुदको शून्य ही पता हूँ……..
तेरे बीत जाने पर भी, ऐ आज! 
वो आज सामने आ जाता है,
कभी कर्मो की कटु-परछाई-सा,
तो कभी मर्मो-से लिखी रक्त रंजित,
अनचाही गहराई-सा …….

गगन धर के माथे पे, ऐ आज!
तेरी अगुवाई की थी,
नहीं जानते थे, नासमझ मन ने,
कल को विरासत में, रूश्वाई दी थी…….
ऐ आज!…… जरा रोक ले उसको,
मेरे कल को बिगाड़ने की,
वो साजिसे बनता है,
वो प्रकाश की मरीचिका गढ़,
मुझे अपने पास बुलाता है……………

राकेश कुमार वर्मा (आवारा बंजारा)

Advertisements

Your views and comments are most welcome

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.